Maine Pucha Chand Se Lyrics - मैंने पूछा चाँद से | Maine Puchha Chand Se Lyrics in Hindi – Md. Rafi

Maine Pucha Chand Se Lyrics - मैंने पूछा चाँद से | Maine Puchha Chand Se Lyrics in Hindi – Md. Rafi


Maine Pucha Chand Se Lyrics - मैंने पूछा चाँद से | Maine Puchha Chand Se Lyrics in Hindi – Md. Rafi


Puchha Chand Se lyrics in Hindi from movie Abdullah (1980) sung by Md Rafi. The song Mine Poochha Chand se is written by Anand Bakshi and music composed by Rahul Dev Burman. Starring Raj Kapoor, Sanjay Khan, Zeenat Aman, Danny.


Maine Pucha Chand Se Lyrics - मैंने पूछा चाँद से 

English


I asked the moon that
Have you seen my friend
The moon said, the promise of moonlight
No, no, no… I asked the moon…
I found your hijab
Shabba tera dhoja everywhere
Asked your example
Flowers find your answer
I asked the garden, whether it is fruit or land
Is such a flower somewhere
Bagh said not every bud
No, no… I asked the moon…
Ho .. the trick is to have fun
Story of julf hai ki raat
Lip is the mirror
Aankhon hai mahanka do ki rani
I asked, jam or flourish
It is also such a matter somewhere
Jam said no swear word
No, no .. I asked the moon…
Beauty that you found
Looted god's bus
May I tell you my ghazals
Kahoon Khiyam ki Rubai
Whatever i ask poets
Is there any heart like a lion somewhere
Shayari says swear of shayari
no no no…
I asked the moon whether you saw it
Like my friend
The moon said, the promise of moonlight
No, no, no .. I asked the moon ..


Maine Pucha Chand Se Lyrics - मैंने पूछा चाँद से 

Hindi


मैंने पूछा चाँद से कि
देखा है कहीं मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चांदनी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं…मैंने पूछा चाँद से…
मैंने ये हीज़ाब तेरा ढूंढा
हर जगह शबाब तेरा ढूंढा
कलियों से मिसाल तेरी पूछी
फूलों ने जवाब तेरा ढूंढा
मैंने पूछा बाग से, फ़लक हो या जमीं
ऐसा फूल है कहीं
बाग़ ने कहा हर कली की क़सम नहीं
नहीं, नहीं… मैंने पूछा चाँद से…
हो.. चाल है की मौज की रवानी
जुल्फ़ है की रात की कहानी
होंठ है की आईने कवल के
आँख है के महका दो की रानी
मैंने पूछा जाम से, फ़लक हो या जमीं
ऐसी मह भी है कहीं
जाम ने कहा महकशीं की क़सम नहीं
नहीं, नहीं.. मैंने पूछा चाँद से…
खुबसूरती जो तूने पाई
लुट गयी ख़ुदा की बस ख़ुदाई
मीर के गज़ल कहूँ तुझे मैं या
कहूँ खीयाम की रुबाई
मैं जो पूछूं शायरों से
ऐसा दिल नाशी कोई शेर है कहीं
शायर कहे शायरी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं…
मैंने पूछा चाँद से कि देखा है कहीं
मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चांदनी की क़सम
नहीं, नहीं, नहीं.. मैंने पूछा चाँद से..




Song: Maine Poocha Chand Se
Album: Abdullah (1980)
Singer: Mohammad Rafi
Musician: R. D. Burman
Lyricist: Anand Bakshi

More Song Lyrics Here


Nayak Nahi Khalnayak Hu Main lyrics || Hindi Song Lyrics


Mehndi Laga Ke Rakhna Doli Saja Ke Rakhna || Mehandi Laga ke Rakhna Lyrics || Hindi Song Lyrics


Jiye to Jiye Kaise Bin Aapke Lyrics || Hindi Song Lyrics

Post a comment

0 Comments